Friday, February 24, 2012

हमारे एहसास

तुम्हारे साथ चलते चलते,
कुछ कहते कुछ सुनते, 
ज़िन्दगी नदी की तरह बहती है.....
                                                                               हर दिन हर रात ...
                                                                                हर सुबह हर शाम....
                                                                                हम यु ही चलते है साथ साथ....
कुछ कही बाते.....
कुछ अनकही बाते ...
और कभी बिना मतलब की बाते..
                                                                     ये बाते ये पल .....
                                                                     ये आज ये कल ... 
                                                                   तुम्हारे साथ सब कुछ खुबसूरत है .......

बिलकुल मेरे बचपन के सपने ..
'घोड़े पर राजकुमार आएगा' की तरह .......